Ad Code

एड़ी के दर्द के लिए योगा | Adi Ke Dard Ke Liye Yoga

एड़ी के दर्द के लिए योगा | Adi Ke Dard Ke Liye Yoga

एड़ी के दर्द के लिए योगा | Adi Ke Dard Ke Liye Yoga


आज की खराब जीवनशैली, गलत खान-पान और मोटापे की वजह से कई लोगों की एड़ियों में दर्द होने लगता है। इस दर्द को दूर करने के लिए वे दवाईयों का सेवन करते है लेकिन इससे अस्थाई तौर पर राहत मिलती है। दवाईयों का असर खत्म होने पर दर्द फिर होने लगता है। एड़ी के दर्द को हमेशा के लिए दूर करने के लिए नियमित योग करना चाहिए। योग करने से ना केवल एड़ी के दर्द से राहत मिलेगी साथ ही अन्य स्वास्थ्य लाभ भी प्राप्त होंगे।



(1) एड़ी के दर्द के लिए योगा उष्ट्रासन

एड़ी के दर्द के लिए योगा उष्ट्रासन


उष्ट्रासन करने से हमारे शरीर की आकृति किसी ऊठ की तरह होती है इसी कारण इसे उष्ट्रासन कहाँ जाता है। उष्ट्रासन करने से हमारे पूरे शरीर में खिंचाव आता है, शरीर की सभी मांसपेशियाँ लचीली व मजबूत बनती है जिससे एड़ी के दर्द में राहत मिलती है।


यह भी पढ़ें: उष्ट्रासन योग करने की विधि और सावधानियाँ


(2) एड़ी के दर्द के लिए योगा बालासन

एड़ी के दर्द के लिए योगा बालासन

बालासन को चाइल्ड पोज भी कहा जाता है। इसे करने से हमारे पूरे शरीर की माँसपेशियों को आराम मिलता है, हड्डियाँ लचीली और मजबूत होती है, पाचन भी ठीक रहता है और एड़ी के दर्द में भी लाभ होता है।


(3) एड़ी के दर्द के लिए योगा गोमुखासन

एड़ी के दर्द के लिए योगा गोमुखासन

गोमुखासन करने से भी हमारे शरीर की सभी मांसपेशियाँ लचीली और मजबूत होती है, हड्डियाँ लचीली बनती है, हाथ और पैर मजबूत होते है जिससे एड़ी के दर्द में भी लाभ होता है।


(4) एड़ी के दर्द के लिए योगा वज्रासन

एड़ी के दर्द के लिए योगा वज्रासन


वज्रासन करते समय हमें अपनी एड़ियों के बल ही बैठना होता है जिससे एड़ियों में खिंचाव आता है और एड़ी की मांसपेशियाँ लचीली होती है। माँसपेशियों में लचीलापन आने से एड़ी का दर्द दूर होता है।


यह भी पढ़ें: भस्त्रिका और कपालभाति में क्या अंतर होता है


(5) एड़ी के दर्द के लिए योगा शवासन

एड़ी के दर्द के लिए योगा शवासन


शवासन करने से हमारे पूरे शरीर को आराम मिलता है जिससे शरीर में किसी भी प्रकार का दर्द होने पर उस दर्द से हमें राहत मिलती है।


आमतौर पर पूछे जाने वाले सवाल और उनके जवाब



(1) एड़ी के पिछले हिस्से में दर्द क्यों होता है?


एड़ी के पिछले हिस्से में दर्द के कई कारण होते है। मोटापे की वजह से, नंगे पैर चलने की वजह से, ज्यादा दौड़ने की वजह से, मोच, चोट, फ्रैक्चर, सही साइज के जूते न पहनना आदि कारणों से एड़ी के पिछले हिस्से में दर्द होता है। एड़ी हमारे शरीर का भार वहन करने वाली हड्ड़ी होती है इसलिए इस दर्द को नजर अंदाज नहीं करना चाहिए।


(2) एड़ी का दर्द कैसे खत्म होगा?


एड़ी का दर्द खत्म करने के लिए आपको नियमित योग करना चाहिए। योग करने से हमारे शरीर की सभी मांसपेशियां लचीली व मजबूत बनती है जिससे दर्द दूर होता है। इसके साथ ही एड़ी में दर्द होने पर आप बर्फ की सिकाई कर सकते है। बर्फ की सिकाई करने से एड़ी का दर्द और सूजन दोनों दूर होते है। इसके अलावा आप दर्द वाले हिस्से में मसाज कर सकते है। मसाज करने के लिए आप सरसों, नारियल, तिल, जैतून तेल का प्रयोग कर सकते है।


(3) एड़ी में दर्द हो तो क्या खाना चाहिए?


एड़ी में दर्द हो तो अपने खाने में हल्दी का प्रयोग करना चाहिए। हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाये जाते है जो दर्द और सूजन को कम करने में मदद करते है।


(4) एड़ी में दर्द किसकी कमी से होता है?


एड़ी में दर्द कैल्शियम की कमी से हो सकता है। कैल्शियम की कमी से हड्डियाँ कमजोर हो जाती है और उनमें दर्द होने लगता है।


(5) पैरों की एड़ियों में दर्द हो तो क्या करना चाहिए?


पैरों की एड़ियों में दर्द हो तो ये उपाये करना चाहिए-


खाने में हल्दी का प्रयोग- हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाये जाते है जिससे सूजन और दर्द दूर होता है इसलिए अपने खाने में हल्दी का प्रयोग करना चाहिए।


लौंग तेल की मालिश- लौंग तेल से मालिश करने से ब्लड सर्कुलेशन तेज हो जाता है जिससे माँसपेशियों को आराम मिलता है और दर्द से राहत मिलती है।


सेंधा नमक की सिकाई- गर्म पानी में 2 से 3 चम्मच सेंधा नमक मिलाकर पैरों की 10 मिनट सिकाई करना चाहिए। इससे एड़ी के दर्द और सूजन में लाभ होता है।


अदरक का काढ़ा- एड़ियों में दर्द होने पर अदरक का काढ़ा बहुत लाभ देता है। इसको पीने से सूजन में भी कमी आती है।


बर्फ की सिकाई- दर्द वाले स्थान पर बर्फ से सिकाई करने पर भी दर्द और सूजन में लाभ होता है।


यह भी पढ़ें:-

सुबह योग करने से होने वाले लाभ

अनुलोम विलोम प्राणायाम से होने वाले लाभ

सर्वांगासन करने से होने वाले लाभ

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Ad Code