Categories: योग

किडनी के लिए योग- किडनी की सभी परेशानियों का अंत

Share

किडनी के लिए योग- किडनी की सभी परेशानियों का अंत

किडनी का हमारे शरीर में महत्वपूर्ण स्थान होता है। किडनी एक फिल्टर की तरह कार्य करती है और खून को शुद्ध करती है, शरीर में पानी और क्षार का संतुलन बनाकर यूरिन तैयार करती है, इसीलिए किडनी का स्वस्थ रहना बहुत जरूरी होता है। यदि किडनी में कोई खराबी आ जाती है तो इसका पता शुरुआत में हमें नहीं चल पाता जिस तरह कैंसर का पता आखरी में चलता है उसी तरह किडनी में खराबी आने का पता भी आखरी में ही चल पाता है।

किडनी में खराबी आने पर हमारे शरीर में इसके कुछ लक्षण दिखने लगते हैं जैसे कि हमें जल्दी थकावट आने लगती है, चेहरे व पैरों में सूजन रहती है, यूरिन करने में परेशानी होती है। किडनी में खराबी आने का प्रमुख कारण हमारी गलत दिनचर्या और खानपान है। समय रहते यदि हम अपनी दिनचर्या सुधारें और अपने खान-पान का ध्यान रखें तो किडनी को खराब होने से बचाया जा सकता है।

यदि हम नियमित रूप से योग करना शुरू कर दें तो किडनी को पूरी तरह से स्वस्थ बनाया जा सकता है साथ ही किडनी की कार्य क्षमता को भी बढ़ाया जा सकता है। यहां पर हम किडनी के लिए योग बता रहे हैं जिनका नियमित अभ्यास ना केवल किडनी को स्वस्थ बनाएगा बल्कि उसकी कार्यक्षमता को भी बढ़ा देगा।

किडनी के लिए योग भुजंगासन

➢ भुजंगासन करने से हमारी पाचन शक्ति मजबूत होती है साथ ही हमारी इम्यूनिटी भी बढ़ती है और यह आसन हमारी किडनी के लिए भी लाभदायक है।
➢ भुजंगासन करने के लिए चटाई पर पेट के बल लेट जाएं।
➢ यह भी पढ़े: कान के लिए योग- कान की सभी परेशानियों का आसान उपाये
➢ अपने दोनों पैरों के बीच में एक से डेढ़ फुट का अंतर बना लें।
➢ अपने दोनों हाथों को अपने सीने के बगल में रखें।
➢ अब सांस लेते हुए अपने धड़ को ऊपर उठाना शुरू करें और उसे अपनी नाभि तक ऊपर उठा ले।
➢ अपने सिर को जितना संभव हो पीछे ले जाने का प्रयास करें।
➢ इस स्थिति में आपको कुछ देर तक रुकना है फिर साँस छोड़ते हुए वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।

किडनी के लिए योग बालासन

➢ बालासन करने से हमारी इम्यूनिटी बढ़ती है, पाचन शक्ति मजबूत होती है और किडनी को भी लाभ होता है।
➢ बालासन करने के लिए वज्रासन में बैठ जाए।
➢ सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को सिर के ऊपर तक उठा ले।
➢ साँस छोड़ते हुए सामने की तरफ झुकना शुरू करें।
➢ अपने माथे को जमीन से लगा ले और अपने हाथों को जमीन में फैलाले।
➢ इस स्थिति में आपको कुछ देर रुकना है फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।

किडनी के लिए योग पश्चिमोत्तानासन

➢ पश्चिमोत्तानासन करने से भी हमारी पाचन शक्ति और इम्यूनिटी बढ़ती है साथ ही इससे किडनी में भी लाभ मिलता है।
➢ पश्चिमोत्तानासन करने के लिए चटाई पर दंडासन की स्थिति में बैठ जाएं।
➢ सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को सिर के ऊपर तक उठा ले।
➢ अब सांस छोड़ते हुए सामने की तरफ झुकना शुरू करें।
➢ अपने माथे को अपने पैर के घुटनों से लगाने का प्रयास करें और अपने हाथों से अपने पैरों को पकड़ने का प्रयास करें।
➢ कुछ देर ऐसी स्थिति में रुकने के बाद सांस लेते हुए वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।
➢ यह पश्चिमोत्तानासन का एक चक्र हुआ। इस तरह से आप पश्चिमोत्तानासन के 10 से 12 चक्र कर सकते हैं।

किडनी के लिए योग वक्रासन

➢ वक्रासन करने से हमारी इम्युनिटी बढ़ती है, पाचन शक्ति मजबूत होती है और किडनी को भी लाभ होता है।
➢ वक्रासन करने के लिए चटाई पर बैठ जाएं।
➢ अपने दोनों पैरों को सामने की तरफ सीधा फैला लें।
➢ अब अपने दाएं पैर को घुटने से मोड़कर दाएं पैर के पंजे को बाएं पैर की जांघ के पास रख ले।
➢ अपने दाएं हाथ को पीछे की तरफ सीधा रख ले।
➢ अब अपने बाएं हाथ को दाएं पैर के घुटने के बाहर से निकालते हुए बाएं पैर के घुटने को छूने का प्रयास करें।
➢ अपनी गर्दन को दाएं तरफ मोड़ले।
➢ यह एक तरफ से वक्रासन हुआ अब यही प्रक्रिया बाएं पैर को मोड़कर या बाएं तरफ से भी करें।

किडनी के लिए योग मंडूकासन

➢ मंडूकासन करने से पाचन शक्ति मजबूत होती है, हमारी इम्यूनिटी बढ़ती है साथ ही यह आसन किडनी और लिवर के लिए भी लाभदायक होता है।
➢ मंडूकासन करने के लिए चटाई पर वज्रासन की स्थिति में बैठ जाएं।
➢ अब अपने दोनों हाथ से मुठ्ठी बना ले और उन्हें अपनी नाभि के पास रख ले।
➢ अब सांस छोड़ते हुए सामने की तरफ झुकना शुरू करें और पूरा सामने झुक जाए।
➢ ऐसी स्थिति में आपको अपनी गर्दन को सीधा रखना है।
➢ अपने माथे या सिर को जमीन से टच नहीं कराना है।
➢ कुछ देर के लिए सांस रोके रखना है फिर साँस ले और फिर पूरी सांस छोड़ने के बाद कुछ देर रुकें।
➢ इस तरह से इस आसन को 1 से 2 मिनट के लिए करें इसके बाद वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।

किडनी के लिए योग मर्कटासन

➢ मर्कट का अर्थ होता है बंदर, इस आसन को करते समय हमारी आकृति बंदर के समान होती है इसी कारण इसे मर्कटासन कहा जाता है।
➢ इस आसन को करने से हमारी पाचन शक्ति मजबूत होती है, गैस की परेशानी दूर होती है, इम्यूनिटी बढ़ती है और यह आसन किडनी के लिए भी लाभदायक होता है।
➢ मर्कटासन करने के लिए चटाई पर शवासन की स्थिति में लेट जाएं।
➢ यह भी पढ़े: बवासीर के लिए योग- बवासीर का प्राकृतिक उपचार
➢ अब अपने दोनों हाथों को अपने कंधों की सीध में सीधा करलें।
➢ अपने दोनों पैरों को घुटनों से मोड़ते हुए पैरों के पंजों को अपने शरीर के पास लेकर आए।
➢ अब आपको सांस लेना है और सांस छोड़ते हुए अपने दोनों पैरों को एक साथ दाएं तरफ ले जाना है और ठीक इसके विपरीत अपनी गर्दन को बाईं तरफ घुमाना है।
➢ ऐसी स्थिति में सामान्य रूप से सांस लेते रहे।
➢ कुछ देर इसी स्थिति में रुकने के बाद सांस लेते हुए पहली स्थिति में आ जाएं।
➢ फिर सांस छोड़ते हुए अपने घुटनों को बाएं तरफ मोड़ लें और अपनी गर्दन को दाईं तरफ घुमा ले।
➢ इस तरह से इस आसन को 3 से 5 बार करें।

किडनी को मजबूत कैसे करे?

किडनी को मजबूत करने के लिए नियमित रूप से योग करें साथ ही अपने आहार में ताजे फल और सब्जियां, अंकुरित अनाज, दूध को शामिल करें। इसके साथ ही चीनी, बसा और मांसाहारी भोजन का सेवन कम से कम करें। अपने भोजन में नमक की मात्रा को भी सीमित रखें जिससे उच्च रक्तचाप और किडनी में पथरी जैसे परेशानी से बच सकें।

किडनी खराब होने का क्या संकेत होता है?

किडनी खराब होने के संकेत जैसे कि पैरों और एड़ियों में सूजन रहना, सांस लेने में तकलीफ होना, बहुत ज्यादा थकान महसूस होना, यूरिन कम आना, सीने में दर्द रहना किडनी खराब होने के प्रमुख लक्षण होते हैं। कई बार बिना किसी लक्षण के भी किडनी खराब हो जाती है।

क्या एक किडनी पर आदमी जिंदा रह सकता है?

एक किडनी पर इंसान जिंदा रह सकता है लेकिन उसे कुछ परेशानियों का सामना भी करना पड़ सकता है।

सारांश

किडनी के खराब होने के प्रमुख कारणों में जंक फूड, फास्ट फूड का अधिक सेवन, हमारी गलत दिनचर्या आती है, इसलिए अपने खान-पान का ध्यान रखें। अपने भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियां, अंकुरित अनाज, फलों को शामिल करें साथ ही स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले पदार्थ जैसे कि शराब, सिगरेट, पान तंबाकू का सेवन ना करें।

इसके साथ ही नियमित रूप से योग करें क्योंकि योग करके अपने शरीर को पूरी तरह स्वस्थ बनाया जा सकता है। योग करने के लिए हमें धन भी खर्च नहीं करना पड़ता और किसी प्रकार के महंगे उपकरणों का प्रयोग भी नहीं करना पड़ता क्योंकि योग एक प्राकृतिक तरीका है।

यह भी पढ़े:-
कमर दर्द का योग- कमर दर्द दूर करने के लिए आसान योग
त्वचा की चमक बढ़ाने वाले योग
बीपी कम करने के लिए योग
मोटापा कम करने का योगा
स्मरण शक्ति बढ़ाने के योग

Published by
admin

Recent Posts

पैर दर्द के लिए योग

पैर दर्द के लिए योग वर्तमान समय में खराब लाइफस्टाइल की वजह से, ज्यादा देर… Read More

2 days ago

मानसिक रोग के लिए योग

मानसिक रोग के लिए योग आज के समय में लोगों की महत्वकांक्षा इतनी ज्यादा बढ़… Read More

3 days ago

प्रोस्टेट के लिए योग

प्रोस्टेट के लिए योग प्रोस्टेट पुरुषों में पाई जाने वाली एक ग्रंथि होती है जो… Read More

5 days ago

पैंक्रियास के लिए योग

पैंक्रियास के लिए योग हमारी पाचन प्रणाली में पैंक्रियास का महत्वपूर्ण स्थान होता है। पैंक्रियास… Read More

6 days ago

पद्मासन योग क्या है-पद्मासन योग के लाभ

पद्मासन योग क्या है-पद्मासन योग के लाभ पद्मासन को कमल आसन के नाम से भी… Read More

1 week ago

वज्रासन कैसे करते हैं-वज्रासन के फायदे और नुकसान

वज्रासन कैसे करते हैं-वज्रासन के फायदे और नुकसान वज्र संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ होता… Read More

1 week ago