Categories: योग

स्मरण शक्ति बढ़ाने के योग

Share

Table of Contents

स्मरण शक्ति बढ़ाने के योग

वर्तमान समय में लोगों की याददाश्त में कमी आ रही है। इसका प्रमुख कारण है तनाव, अवसाद, अनिद्रा, भोजन में पर्याप्त पोषक तत्वों की कमी, शराब, सिगरेट, तंबाकू जैसे नशीले पदार्थों का अत्यधिक सेवन।

यदि हमारी स्मरण शक्ती अच्छी रहती है तो इससे हमें अनेको लाभ प्राप्त होते हैं। जैसे जो कार्य हम करते हैं उस कार्य को हम लंबे समय तक याद रख पाते हैं साथ ही अच्छे तरह से सीख भी पाते हैं।

स्मरण शक्ति का कमजोर होना ना केवल बड़ों में देखा जा रहा है बल्कि यह समस्या बच्चों और युवाओं में भी देखने में आ रही है।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के कई उपाय मौजूद है जैसे कि दवाइयों का सेवन, औषधियों का सेवन, दिमाग तेज करने की एक्सरसाइज आदि इन सभी में जो सबसे अच्छा साधन है वह है “योग” क्योंकि योग करने के लिए ना ही आपको पैसे खर्च करने पड़ते हैं और ना ही इसका कोई विपरीत प्रभाव होता है।

यहां पर हम आपको स्मरण शक्ति बढ़ाने के योग आसन बता रहे हैं। जिनका नियमित रूप से अभ्यास करके आप अपनी स्मरण शक्ति को कई गुना बढ़ा सकते हैं।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए सुपर ब्रेन योगा

➣ स्मरण शक्ति बढ़ाने के योग में सबसे महत्वपूर्ण सुपर ब्रेन योगा है।
➣ सुपर ब्रेन योगा करने से हमारे मस्तिष्क के दाएं और बाएं भाग में समन्वय आता है, हमारे सोचने की क्षमता बढ़ती है, मानसिक ऊर्जा बढ़ती है, शरीर में ऊर्जा बढ़ती है, हमारा मन शांत रहता है, हमारी रचनात्मकता और एकाग्रता में वृद्धि होती है।
➣ सुपर ब्रेन योगा करने के लिए चटाई बिछाकर उस पर खड़े हो जाएं।
➣ अब अपने बाएं हाथ से अपने दाहिने कान को पकड़ ले। आप का अंगूठा सामने की तरफ रहना चाहिए।
➣ अब अपने दाएं हाथ से अपने बाएं कान को पकड़ ले। इसमें भी अंगूठा सामने की तरफ ही रहना चाहिए।
➣ अब गहरी सांस लें और धीरे-धीरे बैठने का प्रयास करें जिस तरह से किसी कुर्सी पर बैठा जाता है।
➣ कुछ देर के लिए ऐसी स्थिति में रुके और सांस छोड़ते हुए वापस खड़े हो जाएं।
➣ यह एक चक्र पूरा हुआ। इस तरह से सुपर ब्रेन योग के 10 से 12 चक्र करें।

यह भी पढ़े: खर्राटे के लिए योग

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए भ्रामरी प्राणायाम

➣ भ्रामरी प्राणायाम करने से हमारे अंदर मौजूद निराशा, चिंता, क्रोध दूर होता है।
➣ हमारी स्मरण शक्ति और एकाग्रता बढ़ती है साथ ही हमारे अंदर आत्मविश्वास में वृद्धि होती है।
➣ भ्रामरी प्राणायाम करने के लिए चटाई बिछाकर सुखासन, सिद्धासन में आराम से बैठ जाएं।
➣ अपनी आंखों को बंद कर लें।
➣ अपनी तर्जनी उंगली को अपने कानों पर रख लें।
➣ अब आपको एक लंबी गहरी सांस लेना है और सांस छोड़ते हुए आपको भिनभिनाने जैसी आवाज निकालनी है।
➣ इसके बाद फिर आप एक लंबी गहरी सांस लें और इस प्रक्रिया को दोहराएं।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए सर्वांगासन योग

➣ सर्वांगासन करने से थायराइड और पैराथाइरॉइड ग्रंथियां सुचारू रूप से कार्य करती हैं साथ ही हाइपोथैलेमस और पीनियल ग्रंथियों में भी रक्त का संचार होता है जिससे मस्तिष्क की क्षमता बढ़ती है और हमारी स्मरण शक्ति बढ़ती है।
➣ सर्वांगासन योग करने के लिए चटाई बिछा लें और पीठ के बल लेट जाएं।
➣ अब अपने दोनों पैरों को आसमान की तरफ सीधा ऊपर उठा ले।
➣ अपनी कमर को अपने हाथों से सहारा दें।
➣ आपके पैरों के अंगूठे आपकी आंखों के सीध में रहने चाहिए।
➣ सामान्य रूप से सांस लेते रहें और यथासंभव इस स्थिति में रुके।
➣ फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए हलासन योग

➣ हलासन करने से तनाव, अवसाद और थकान दूर होती है साथ ही मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह सुचारू रूप से होता है जिससे स्मरण शक्ति भी बेहतर होती है।
➣ हलासन करने के लिए चटाई बिछाकर पीठ के बल लेट जाएं।
➣ अपने दोनों पैरों को एक साथ ऊपर उठाएं और उन्हें सिर के पीछे रख लें।
➣ पैरों के घुटने सीधे रहने चाहिए।
➣ सामान्य रूप से सांस लेते रहें और जितनी देर आसानी से इस स्थिति में रुक सकते हैं उतना रुकें फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।

यह भी पढ़े: बाल काले करने का योग

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए पश्चिमोत्तानासन योग

➣ पश्चिमोत्तानासन करने से मन शांत रहता है और चिड़चिड़ापन, क्रोध दूर रहता है।
➣ यह आसन रीढ़ की हड्डी में खिंचाव लाता है जिससे हम तनाव मुक्त रहते हैं।
➣ पश्चिमोत्तानासन करने के लिए चटाई पर बैठ जाएं।
➣ अपने दोनों पैरों को सामने की तरफ फैला लें और दोनों पैरों को आपस में मिला लें।
➣ दोनों पैरों के घुटने सीधे रहने चाहिए।
➣ अपनी कमर को और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें।
➣ सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाएं और सांस छोड़ते हुए सामने की तरफ झुकना शुरू करें।
➣ अपने हाथों से अपने पैरों को छूने का प्रयास करें।
➣ कुछ देर तक ऐसी स्थिति में रुके फिर सांस लेते हुए वापस पहली स्थिति में आ जाएं।
➣ यह पश्चिमोत्तानासन का एक चक्र हुआ।
➣ इस तरह से 10 से 12 चक्र किए जा सकते हैं।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए सेतुबंध आसन

➣ सेतुबंध आसन करने से चिंता, तनाव, अवसाद दूर रहता है।
➣ गर्दन और रीढ़ की मांसपेशियों में खिंचाव आता है जिससे यह मजबूत होती है।
➣ मस्तिष्क में रक्त का संचार बढ़ता है जिससे स्मरण शक्ति भी बढ़ती है।
➣ सेतुबंध आसन करने के लिए चटाई पर पीठ के बल आराम से लेट जाएं।
➣ अपने दोनों पैरों को अपने नितंबों के पास रख ले।
➣ अपने हाथों को जमीन पर आराम से फैला है।
➣ अब अपनी कमर और नितंबों को जितना हो सके ऊपर उठाने का प्रयास करें।
➣ ऐसी स्थिति में आपके शरीर का पूरा वजन आपके पैरों, कंधों, और सिर पर रहेगा।
➣ सामान्य रूप से सांस लेते रहें और जितनी देर हो सके इस स्थिति में रुके फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए ध्यान

➣ ध्यान करने में बहुत सरल होता है और इसके नियमित अभ्यास से हमारी स्मरण शक्ति को आसानी से बढ़ाया जा सकता है।
➣ यदि आप नियमित रूप से 10 से 15 मिनट भी ध्यान करते हैं तो कुछ ही दिनों में इसका लाभ आपको दिखना शुरू हो जाएगा।
➣ ध्यान करने के लिए सुखासन या पद्मासन में आराम से बैठ जाएं।
➣ अपनी आंखों को बंद कर ले और अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें।
➣ 10 से 15 मिनट के लिए अपना ध्यान केंद्रित करें फिर आंखें खोलले।

यह भी पढ़े: रीढ़ की हड्डी को सीधा करने के लिए योग

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए सिद्धासन

➣ सिद्धासन करने से हम तनाव, अवसाद से मुक्त रहते हैं, हमारा मन शांत रहता है और हमारी स्मरण शक्ति अच्छी होती है।
➣ सिद्धासन करने के लिए चटाई पर आराम से बैठ जाए जैसे सुखासन में बैठा जाता है।
➣ दोनों पैरों की एड़ियां एक दूसरे के ऊपर रहनी चाहिए।
➣ अपनी कमर को और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और अपने हाथों को ध्यान मुद्रा में रखें।

बुद्धि तेज करने के लिए क्या खाना चाहिए?

बुद्धि तेज करने के लिए हमें सूखे मेवे जैसे कि काजू, बादाम, अखरोट खाना चाहिए। अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे कि पालक, ब्रोकली शामिल करनी चाहिए साथ ही फल पपीता, केले, सेव का नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

सुबह सुबह दिमाग तेज़ कैसे करें?

यदि आप सुबह के समय अपने दिमाग को तेज करना चाहते हैं तो आपको सुबह नियमित रूप से योग करना चाहिए। योग में सुपर ब्रेन योगा, हलासन, सर्वांगासन, शीर्षासन, पश्चिमोत्तानासन, पादहस्तासन जैसे आसनों का नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए साथ ही प्राणायाम और ध्यान भी नियमित रूप से करना चाहिए।

बच्चों के तेज दिमाग के लिए क्या करना चाहिए?

बच्चों के तेज दिमाग के लिए उन्हें नियमित रूप से योग करवाना चाहिए जैसे कि सुपर ब्रेन योगा, शीर्षासन, सर्वांगासन, हलासन साथ ही ध्यान और प्राणायाम का भी नियमित रूप से अभ्यास करवाना चाहिए। इसके साथ ही अपने बच्चों को नियमित रूप से सूखे मेवे जैसे बादाम, काजू, अखरोट और फलों में केले, पपीता, हरी सब्जियों में पालक, ब्रोकली का सेवन करवाना चाहिए।

यह भी पढ़े: आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योग

क्या बादाम खाने से दिमाग चलता है?

बादाम में प्रोटीन पाया जाता है जो हमारे ब्रेन के फंक्शन को बेहतर बनाता है। प्रोटीन से हमें ऊर्जा भी मिलती है जिससे हमारे कार्य करने की क्षमता बढ़ती है साथ ही यह हमारे ब्रेन के सेल्स को रिपेयर भी करता है जिससे हमारे सोचने, समझने और निर्णय लेने की क्षमता का विकास होता है, इसलिए बादाम खाने से दिमाग तेज होता है।

दिमाग तेज करने के लिए बादाम कैसे खाएं?

बादाम में विटामिन ई पाया जाता है जिससे दिमाग तेज होता है साथ ही त्वचा की कांति भी बढ़ती है। यदि आप दिमाग तेज करने के लिए बादाम खाना चाहते हैं तो आप रात में बादाम को पानी में भिगोने के लिए रख दें और सुबह उसका सेवन करें और बादाम के साथ दूध पी ले। इसके साथ ही एक तरीका और है, आप भीगे हुए बादाम को पत्थर पर घिसकर उसका पेस्ट बना सकते हैं और उसे दूध में घोलकर पी सकते हैं। जो तरीका आपको आसान लगे उसका प्रयोग करें।

सुबह खाली पेट बादाम खाने से क्या होता है?

बादाम में फाइबर, प्रोटीन, विटामिन ई प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। यदि आप सुबह खाली पेट बादाम खाते हैं तो आपका पेट देर तक भरा महसूस होता है जिससे बार-बार भूख लगने की आशंका कम रहती है साथ ही बादाम खाने से हमारा मेटाबॉलिस्म लेबल भी बढ़ता है जिससे शरीर में मौजूद फैट तेजी से बर्न होता है।

सारांश

स्मरण शक्ति बढ़ाने के योग में सबसे आसान सुपर ब्रेन योगा और ध्यान है। नियमित रूप से यदि आप 10 मिनट भी इनका अभ्यास करते हैं तो कुछ ही दिनों में आपको इसका लाभ दिखना शुरू हो जाएगा। स्मरण शक्ति और हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाने वाले पदार्थ जैसे कि गुटखा, सिगरेट, शराब इनके सेवन से हमें बचना चाहिए क्योंकि इनका सेवन करने से हमारा शरीर कमजोर हो जाता है, हमारी स्मरण शक्ति भी कमजोर हो जाती है और हमारी सोचने समझने की क्षमता भी बहुत कमजोर पड़ जाती है। इसलिए इनका सेवन ना करें और नियमित रूप से योग करें और स्वस्थ रहें।

यह भी पढ़े:-
फैटी लिवर के लिए योग
हिप कम करने के लिए योग
भस्त्रिका प्राणायाम के फायदे
गोमुखासन के फायदे क्या हैं
अनुलोम विलोम प्राणायाम के फायदे

Published by
admin

Recent Posts

खर्राटे के लिए योग

खर्राटे के लिए योग कई लोगों को खर्राटे की समस्या होती है। जब वे सोते… Read More

22 hours ago

बाल काले करने का योग

बाल काले करने का योग वर्तमान समय में कम उम्र में बालों का सफेद होना… Read More

2 days ago

रीढ़ की हड्डी को सीधा करने के लिए योग

रीढ़ की हड्डी को सीधा करने के लिए योग रीढ़ की हड्डी सीधी रहने से… Read More

1 week ago

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योग

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए योग वर्तमान समय में हम मोबाइल फोन, कंप्यूटर, टेलीविजन… Read More

3 weeks ago

फैटी लिवर के लिए योग

फैटी लिवर के लिए योग हमारे शरीर में लिवर का बहुत महत्वपूर्ण स्थान होता है… Read More

1 month ago

पादहस्तासन क्या है | Padahastasana In Hindi

पादहस्तासन क्या है | Padahastasana In Hindi पादहस्तासन में पद का अर्थ होता है पैर,… Read More

1 month ago