Categories: योग

सर्वांगासन के फायदे- सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए

Share

सर्वांगासन के फायदे- सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए

सर्वांगासन के नाम से ही पता चलता है कि यह आसन शरीर के सभी अंगों को लाभ पहुंचाता है इसी कारण इसे सर्वांगासन कहा जाता है। यदि आपके पास योग करने के लिए पर्याप्त समय नहीं है और आप हर रोज केवल 5 मिनट के लिए सर्वांगासन ही करते हैं तो आपको इससे बहुत लाभ होगा। सर्वांगासन के नियमित अभ्यास से मोटापा कम होता है, थकान दूर होती है और पाचन शक्ति मजबूत होती है इसके साथ ही हमें अनेको लाभ प्राप्त होते हैं।

सर्वांगासन की विधि

➢ सर्वांगासन करने के लिए चटाई पर पीठ के बल आराम से लेट जाएं।
➢ अब अपने दोनों पैरों को आपस में मिला लें और उन्हें एक साथ आसमान की तरफ ऊपर उठाने का प्रयास करें।
➢ अपने दोनों पैरों को सीधा ऊपर उठा ले और अपनी कमर को अपने हाथों से सहारा दें।
➢ यह भी पढ़े: मकरासन योग कैसे किया जाता है
➢ आपकी नजरें आपके पैरों के अंगूठे पर रहनी चाहिए।
➢ इस स्थिति में आपको सामान्य रूप से सांस लेते रहना है।
➢ कुछ देर इस स्थिति में रुकने के बाद आपको वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।
➢ सर्वांगासन करने के बाद आपको हलासन का अभ्यास करना चाहिए।

सर्वांगासन के फायदे

➢ सर्वांगासन के नियमित अभ्यास से मोटापा कम होता है, पेट की चर्बी दूर होती है जिससे वजन नियंत्रण में रहता है।
➢ इस आसन के अभ्यास से शरीर लचीला व मजबूत बनता है और शारीरिक दुर्बलता भी दूर होती है।
➢ यदि आपकी पाचन शक्ति कमजोर है तो आपको नियमित रूप से सर्वांगासन का अभ्यास करना चाहिए। इसके अभ्यास से पाचन शक्ति मजबूत होती है और पेट से जुड़ी बीमारियां जैसे कि अपच, कब्ज, गैस की परेशानी भी दूर होती है।
➢ सर्वांगासन के नियमित अभ्यास से थायराइड की परेशानी हमेशा के लिए दूर हो जाती है।
➢ सर्वांगासन महिलाओं के लिए भी लाभदायक होता है। इस आसन के अभ्यास से महिलाओं की मासिक धर्म से जुड़ी परेशानियां दूर होती हैं।
➢ इस आसन को करने से रक्त का संचार मस्तिष्क की तरफ बढ़ जाता है जिससे मस्तिष्क की कार्यक्षमता बढ़ती है साथ ही हमारी एकाग्रता भी बढ़ती है।
➢ इस आसन के नियमित अभ्यास से हमारे हाथ, पैर, पीठ, कंधे की मांसपेशियां मजबूत होती है और इनमें मौजूद अकड़न या तनाव दूर होता है।
➢ यदि आपको तनाव या अवसाद की परेशानी है तब भी आपको सर्वांगासन का अभ्यास करना चाहिए। इस आसन के अभ्यास से मस्तिष्क शांत रहता है और तनाव या अवसाद दूर होता है।
➢ सर्वांगासन के अभ्यास से दिल भी मजबूत होता है और दिल से जुड़ी बीमारियां भी दूर होती हैं।
➢ इस आसन को करने से सिर की तरफ रक्त का संचार बढ़ जाता है जिससे सिर तक पर्याप्त ऑक्सीजन पहुंचती है और जल्दी बाल सफेद होने, बाल झड़ने जैसी परेशानियां भी दूर होती हैं।
➢ सर्वांगासन के नियमित अभ्यास से चेहरे पर झुर्रियां और कील-मुंहासे नहीं होते। यह आसन चेहरे की त्वचा के लिए भी लाभदायक है।
➢ इस आसन को करने से रीढ़ की हड्डी लचीली व मजबूत बनती है।
➢ यदि आपको वेरीकोज वेंस की परेशानी है तब भी सर्वांगासन लाभदायक होता है।
➢ यदि आप अपनी आंखों की रोशनी बढ़ाना चाहते हैं इसके लिए भी आप सर्वांगासन कर सकते हैं क्योंकि यह आसन आंखों की रोशनी बढ़ाने में भी कारगर होता है।

सर्वांगासन कितनी देर करना चाहिए?

सर्वांगासन का अभ्यास आपको शुरुआत में लगभग 2 मिनट करना चाहिए। इसके बाद धीरे-धीरे इसके अभ्यास को बढ़ाकर 5 मिनट तक किया जा सकता है।

सर्वांगासन की सावधानियां

➢ सर्वांगासन करते समय हमें कुछ सावधानियों का भी ध्यान रखना चाहिए।
➢ सर्वांगासन का अभ्यास हमेशा सुबह के समय ही किया जाना सबसे ज्यादा लाभप्रद होता है।
➢ यह भी पढ़े: सीने में दर्द के लिए योग
➢ यदि किसी कारण से आप शाम को सर्वांगासन का अभ्यास करते हैं तो अभ्यास करने के 4 से 6 घंटे पहले भोजन करना चाहिए।
➢ किसी भी योगाभ्यास को करते समय हमारा पेट खाली रहना चाहिए।
➢ यदि आपको हाई ब्लड प्रेशर, डायरिया या कोई गंभीर बीमारी है तब इस आसन का अभ्यास करने से बचना चाहिए या किसी विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही अभ्यास करना चाहिए।
➢ घुटनों में दर्द होने पर, गर्दन में दर्द या अकड़न होने पर भी इसका अभ्यास ना करें।

सारांश

सर्वांगासन का अभ्यास हमारे लिए बहुत ज्यादा लाभप्रद होता है इसलिए इसका नियमित अभ्यास करना चाहिए। योगाभ्यास करते समय हमें कुछ सावधानियों का भी ध्यान रखना चाहिए जैसे कि गंभीर बीमारी होने पर, गंभीर चोट लगने पर हमें डॉक्टर से या किसी योग के विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही योगाभ्यास करना चाहिए।

योग करने के साथ-साथ हमें अपने आहार या खानपान पर भी ध्यान देना चाहिए। हमें हमेशा हरी पत्तेदार सब्जियां, फल, दूध, अंकुरित अनाज, सूखे मेवे जैसे कि काजू, बादाम, अखरोट, अंजीर को अपने आहार में शामिल करना चाहिए और हमारे स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले पदार्थों से हमें हमेशा दूर रहना चाहिए। यदि इन बातों को ध्यान में रखकर योग किया जाता है तो हमें योग का बहुत लाभ प्राप्त होता है।

यह भी पढ़े:-
योग क्या है, योग कितने प्रकार के होते हैं
जल्दी हाइट बढ़ाने के योग कौन से है
कमर दर्द के लिए सबसे अच्छा योग आसन
योग द्वारा हर्निया का इलाज कैसे करें
बाल उगाने के योग- बालों को घना और लम्बा बनाने के लिए

Published by
admin

Recent Posts

मकरासन योग कैसे किया जाता है

मकरासन योग कैसे किया जाता है मकर का अर्थ होता है मगर या मगरमच्छ। इस… Read More

19 hours ago

सीने में दर्द के लिए योग

सीने में दर्द के लिए योग सीने में दर्द होने के कई सारे कारण हो… Read More

2 days ago

योग क्या है, योग कितने प्रकार के होते हैं

योग क्या है, योग कितने प्रकार के होते हैं योग क्या है महर्षि पतंजलि के… Read More

3 days ago

जल्दी हाइट बढ़ाने के योग कौन से है

जल्दी हाइट बढ़ाने के योग कौन से है लंबी हाइट होने से हमारा शरीर आकर्षक… Read More

5 days ago

कमर दर्द के लिए सबसे अच्छा योग आसन

कमर दर्द के लिए सबसे अच्छा योग आसन गलत तरीके से बैठने, लेटने, सोने और… Read More

7 days ago

योग द्वारा हर्निया का इलाज कैसे करें

योग द्वारा हर्निया का इलाज कैसे करें जब शरीर के किसी अंग में मांस बाहर… Read More

1 week ago