Categories: योग

सुबह करने वाले योग-जो बनाएंगे स्वस्थ और तंदुरुस्त

Share

सुबह करने वाले योग-जो बनाएंगे स्वस्थ और तंदुरुस्त

सुबह का समय योग करने के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है क्योंकि सुबह के समय हमारा मन शांत रहता है साथ ही वातावरण भी स्वच्छ रहता है और ताजी वायु भी चलती है। सुबह के समय योग करने से हमें योग का जितना लाभ होता है उतना लाभ शाम को या दोपहर में योग करने से नहीं मिलता इसीलिए योग करने के लिए सुबह का समय ही सबसे अच्छा माना जाता है।

यहां पर हम आपको कुछ योगासन बता रहे हैं जिनका नियमित रूप से सुबह अभ्यास करने से आप लंबी उम्र तक स्वस्थ और तंदुरुस्त बने रह सकते हैं।

सुबह करने वाले योग ताड़ासन

➢ ताड़ासन का नियमित रूप से सुबह अभ्यास करने से हमारे पूरे शरीर की मांसपेशियों का व्यायाम हो जाता है जिससे हम स्वस्थ और तंदुरुस्त बनते हैं।
➢ ताड़ासन योग करने के लिए चटाई पर सीधे खड़े हो जाएं।
➢ अपने सिर और रीढ़ की हड्ड़ी को भी सीधा रखें।
➢ यह भी पढ़े: ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए योग
➢ सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को एक साथ सिर के ऊपर तक ले जाएं।
➢ अपने दोनों हाथों की हथेलियों को आपस में मिलाले।
➢ अब अपने पूरे शरीर को एक साथ आसमान की तरफ खींचे।
➢ जब आप अपने शरीर को ऊपर खींच लेंगे ऐसा करते समय आपके शरीर का पूरा वजन आपके पैरों के पंजों पर रहना चाहिए।
➢ शरीर को ऊपर खींचते समय अपनी एडियों को भी ऊपर उठा लेना है।
➢ कुछ सेकंड इस स्थिति में रुकना है उसके बाद सांस छोड़ते हुए वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।
➢ इस तरह से आपको ताड़ासन योग के 8 से 10 चक्र करना है।

सुबह करने वाले योग पादहस्तासन

➢ पादहस्तासन के नियमित अभ्यास से भी हमारा शरीर स्वस्थ और तंदुरुस्त बनता है इसलिए पादहस्तासन का भी नियमित रूप से सुबह अभ्यास करना चाहिए।
➢ पादहस्तासन योग करने के लिए चटाई पर सीधे खड़े हो जाएं।
➢ अपने सिर और रीढ़ की हड्डी को भी सीधा रखें।
➢ सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को एक साथ ऊपर उठाना शुरू करें और अपने सिर के ऊपर तक ले जाएं।
➢ हाथों को ऊपर ले जाते समय हाथों की कोहनियाँ सीधी रहनी चाहिए।
➢ अब सांस छोड़ते हुए अपनी कमर को सामने की तरफ झुकाना शुरू करें।
➢ आपको अपने हाथों से अपने पैरों को छूने का प्रयास करना है।
➢ ऐसी स्थिति में कुछ सेकंड रुकने के बाद सांस लेते हुए वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।
➢ इस तरह से आपको पादहस्तासन योग के भी 8 से 10 चक्र करना है।

सुबह करने वाले योग वृक्षासन

➢ वृक्षासन भी सुबह करने वाला एक अच्छा योग है जिसका नियमित अभ्यास स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है।
➢ वृक्षासन योग करने के लिए चटाई पर सीधे खड़े हो जाएं।
➢ अब अपने दाएं पैर के पंजे को बाएं पैर की जांघ पर रख लें।
➢ अपने दोनों हाथों को नमस्कार मुद्रा में लाए और उन्हें अपने सिर के ऊपर ले जाएं।
➢ इस स्थिति में आपको कुछ देर रुकना है।
➢ कुछ देर बाद वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।
➢ सामान्य स्थिति में आने के बाद इसी प्रक्रिया को बाएं पैर से भी करना है।

सुबह करने वाला योग मार्जरी आसन

➢ मार्जरी आसन भी स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होता है।
➢ मार्जरी आसन करने के लिए चटाई पर अपने हाथों और घुटनों के बल खड़े हो जाएं।
➢ आपके पैर के तलवे आसमान की तरफ रहने चाहिए।
➢ यह भी पढ़े: पैर दर्द के लिए योग
➢ अब आपको सांस लेते हुए अपनी कमर को ऊपर उठाना है और अपने सिर को नीचे लाना है।
➢ कुछ देर ऐसी स्थिति में रुकना है फिर सांस छोड़ते हुए अपने पेट को जमीन की तरफ ले जाना है और अपने सिर को ऊपर उठाना है।
➢ इस तरह से इस प्रक्रिया को 5 से 8 बार करना है।

सुबह करने वाले योग सूर्य नमस्कार

➢ सूर्य नमस्कार को सुबह के समय करने से इससे हमें अनेकों लाभ प्राप्त होते हैं।
➢ सूर्य नमस्कार में कई आसनों को किया जाता है जिससे पूरे शरीर को लाभ होता है और शरीर के सभी अंगो का व्यायाम हो जाता है।
➢ सूर्य नमस्कार का अभ्यास सभी लोग कर सकते हैं चाहे वे स्त्री हो या पुरुष, युवा हो या वृद्ध।
➢ सूर्य नमस्कार की पूरी विधि-सूर्यनमस्कार क्या है? सूर्यनमस्कार की विधि, लाभ व सावधानियाँ

सुबह करने वाले योग सर्वांगासन

➢ सर्वांगासन के नाम से ही हमें पता चलता है कि यह आसन शरीर के सभी अंगों को लाभ पहुंचाता है इसलिए सुबह इसका अभ्यास हमारे लिए बहुत ज्यादा आवश्यक होता है।
➢ सर्वांगासन करने के लिए चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं।
➢ अब अपने दोनों पैरों को एक साथ ऊपर उठा लें और उन्हें आसमान की तरफ कर ले।
➢ आपके दोनों पैरों के घुटने सीधे रहने चाहिए।
➢ अब आपको अपने हाथों से अपनी कमर को सहारा देना है।
➢ ऐसी स्थिति में आपको सामान्य रूप से सांस लेते रहना है और अपनी नजरों को अपने पैरों के अंगूठे पर केंद्रित करना है।
➢ कुछ देर ऐसी स्थिति में रुकने के बाद वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।

सुबह करने वाले योग हलासन

➢ हलासन का नियमित अभ्यास भी हमारे शरीर को स्वस्थ और तंदुरुस्त बनाने के लिए बहुत जरूरी होता है।
➢ हलासन योग करने के लिए चटाई पर पीठ के बल लेट जाएं।
➢ अपने दोनों पैरों को आपस में मिला लें और उन्हें एक साथ अपने सिर के पीछे ले जाएं।
➢ अब आपको अपनी कमर को अपने हाथों से सहारा देना है।
➢ इस स्थिति में आपको सामान्य रूप से सांस लेते रहना है।
➢ कुछ देर ऐसी स्थिति में रुकने के बाद वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।

सुबह करने वाले योग कपालभाति

➢ कपालभाति का अर्थ होता है मस्तक पर चमक होना या चमकने वाला मस्तक।
➢ कपालभाति के नियमित अभ्यास से हमारे माथे पर चमक आती है और हमारी बुद्धि भी तेज होती है।
➢ कपालभाति करने से हमारे शरीर में मौजूद 80% से भी ज्यादा विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं इसीलिए नियमित रूप से कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास करना चाहिए।

सुबह करने वाले योग अनुलोम विलोम प्राणायाम

➢ अनुलोम का अर्थ होता है सीधा और विलोम का अर्थ होता है उल्टा।
➢ इस प्राणायाम को करते समय हम नाक के एक छिद्र से साँस को लेते हैं और दूसरे छिद्र से बाहर निकाल देते हैं इसीलिए इसे अनुलोम-विलोम कहा जाता है।
➢ अनुलोम विलोम प्राणायाम हठ योग का भाग है।

सुबह करने वाले योग भ्रामरी प्राणायाम

➢ भ्रामरी का अर्थ होता है मक्खी। इस प्राणायाम को करते समय हमारे मुख से मधुमक्खी की तरह भिनभिनाने की आवाज आती है इसी कारण इसे भ्रामरी प्राणायाम कहा जाता है।
➢ यह भी पढ़े: मानसिक रोग के लिए योग
➢ इस प्राणायाम के नियमित अभ्यास से मन शांत रहता है, क्रोध और निराशा, हताशा दूर होते हैं।

आमतौर पर पूछे जाने वाले सवाल और उनके जवाब

योग करने की शुरुआत कैसे करें?

योग करने की शुरुआत करने के लिए आपको सबसे पहले सुबह जल्दी उठकर नहा कर तैयार हो जाना चाहिए। इसके बाद आपको योगाभ्यास करना चाहिए। योग करने से पहले थोड़ा सा व्यायाम या ब्रह्म मुद्रा कर लेना चाहिए और ऐसे आसनों से शुरुआत करनी चाहिए जो करने में आसान होते हैं जैसे कि ताड़ासन, पादहस्तासन, अर्ध चक्रासन उसके बाद फिर कठिन आसन करना चाहिए।

सुबह कितने बजे उठकर योग करना चाहिए?

महर्षि पतंजलि के अनुसार सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर योग करना चाहिए। सुबह 4 बजे योग करने के लिए अच्छा समय माना जाता है। यदि आप किन्ही कारणों से सुबह 4 बजे नहीं उठ सकते तो आप 5 या 6 बजे उठकर भी योग कर सकते हैं।

योग कितनी बार करना चाहिए?

योग का अभ्यास हमें सुबह के समय एक बार ही करना चाहिए। यदि आप सुबह योग कर लेते हैं तब आपको दोपहर में या शाम को योगा करने की जरूरत नहीं रहती है।

क्या शाम को योग कर सकते हैं?

शाम के समय भी योग किया जा सकता है लेकिन योग करने का सबसे अच्छा समय सुबह का माना जाता है और सुबह योग करने से हमें योग का अधिकतम लाभ प्राप्त होता है।

सारांश

योग करने से हमें अनेकों लाभ प्राप्त होते हैं इसलिए हमें नियमित रूप से योग करना चाहिए। योग करने के लिए सुबह का समय सबसे अच्छा माना जाता है। महर्षि पतंजलि के अनुसार ब्रह्म मुहूर्त में उठकर योग करना सबसे ज्यादा लाभदायक माना जाता है। यदि आप किन्हीं कारणों से सुबह नहीं उठ पाते तो आप शाम को भी योग कर सकते हैं। योग करने के साथ हमें अपने आहार में सुधार लाना भी बहुत जरूरी होता है। यदि हम अपने आहार में अधिक तली-भुनी, मसालेदार चीजें, जंक फूड को शामिल करेंगे तो हमें योग का ज्यादा लाभ प्राप्त नहीं हो पाएगा इसीलिए हमें अपने आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां, अंकुरित अनाज, फल, दूध, सूखे मेवे को भी शामिल करना चाहिए साथ ही हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पदार्थ जैसे कि शराब, तंबाकू, गुटखा इनके सेवन से हमें हमेशा दूर रहना चाहिए।

यह भी पढ़े:-
प्रोस्टेट के लिए योग
पैंक्रियास के लिए योग
पद्मासन योग क्या है-पद्मासन योग के लाभ
वज्रासन कैसे करते हैं-वज्रासन के फायदे और नुकसान
पेट साफ करने के लिए योग- कब्ज, गैस, अपच का इलाज

Published by
admin

Recent Posts

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए योग

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए योग शरीर में ऑक्सीजन बहुत महत्वपूर्ण होती है क्योंकि रक्त… Read More

4 days ago

पैर दर्द के लिए योग

पैर दर्द के लिए योग वर्तमान समय में खराब लाइफस्टाइल की वजह से, ज्यादा देर… Read More

2 weeks ago

मानसिक रोग के लिए योग

मानसिक रोग के लिए योग आज के समय में लोगों की महत्वकांक्षा इतनी ज्यादा बढ़… Read More

2 weeks ago

प्रोस्टेट के लिए योग

प्रोस्टेट के लिए योग प्रोस्टेट पुरुषों में पाई जाने वाली एक ग्रंथि होती है जो… Read More

2 weeks ago

पैंक्रियास के लिए योग

पैंक्रियास के लिए योग हमारी पाचन प्रणाली में पैंक्रियास का महत्वपूर्ण स्थान होता है। पैंक्रियास… Read More

2 weeks ago

पद्मासन योग क्या है-पद्मासन योग के लाभ

पद्मासन योग क्या है-पद्मासन योग के लाभ पद्मासन को कमल आसन के नाम से भी… Read More

2 weeks ago