रीड की हड्डी को सीधा करने का योग कौन सा है | Yoga To Straighten The Spine In Hindi

रीड की हड्डी को सीधा करने का योग कौन सा है | Yoga To Straighten The Spine In Hindi

रीड की हड्डी को सीधा करने का योग कौन सा है | Yoga To Straighten The Spine In Hindi

हमारे शरीर में रीढ़ की हड्डी का विशेष महत्व होता है क्योंकि रीढ़ की हड्डी पर ही हमारा शरीर या हमारी शारीरिक संरचना टिकी हुई होती है। जब हम गलत तरीके से बैठते हैं, कंधे और कमर झुकाकर चलते हैं तो हमारी रीढ़ की हड्डी झुक जाती है जिससे हमें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है। पिछले कुछ सालों में रीढ़ की हड्डी से संबंधित परेशानियां बढ़ रही हैं। यह परेशानियां ना केवल वृद्ध लोगों में होती हैं बल्कि युवाओं में भी देखने को मिल रही है। लंबे समय तक बैठकर कार्य करने वाले लोगों में यह परेशानी विशेष रूप से देखने को मिलती है जिस वजह से उनकी कमर, पीठ, रीढ़ में दर्द महसूस होता है।

कई बार यह दर्द असहनीय हो जाता है जिससे हम अपने सामान्य कार्यों को करने में भी असमर्थ हो जाते हैं इसलिए समय रहते हमें इस पर ध्यान देना जरूरी हो जाता है। रीढ़ की हड्डी को सीधा करने के लिए नियमित योग करना सबसे कारगर उपाय होता है। यहां पर कुछ योगासन बताए जा रहे हैं जिनका नियमित अभ्यास करने से रीढ़ की हड्डी को सीधा किया जा सकता है साथ ही रीढ़ की हड्डी से जुड़ी अन्य परेशानियों को भी दूर किया जा सकता है।

रीड की हड्डी को सीधा करने का योग (Yoga To Straighten The Spine In Hindi)

(1) रीड की हड्डी को सीधा करने का योग बालासन

रीड की हड्डी को सीधा करने का योग बालासन

बालासन का अभ्यास करने के लिए सबसे पहले अपने घुटनों के बल बैठ जाएं और अपने शरीर का पूरा वजन अपनी एड़ियों पर डालें। अब आप गहरी सांस लें और सांस छोड़ते हुए आगे की तरफ झुके। आपको अपने सीने को अपनी जांघों से लगा कर रखना है और अपने माथे को फर्श से लगाना है। कुछ देर इस अवस्था में रुकना है फिर वापस सामान्य अवस्था में लौट आना है। बालासन का अभ्यास करने से मांसपेशियों और हड्डियों को आराम मिलता है और रीढ़ की हड्डी सीधी होती है।

(2) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग ताड़ासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग ताड़ासन

रीढ़ की हड्डी को सीधा करने के लिए ताड़ासन भी विशेष लाभकारी होता है। ताड़ासन करने से हमारे शरीर की सभी हड्डियों और मांसपेशियों में खिंचाव आता है जिससे हमारी शारीरिक संरचना सही बनी रहती है। ताड़ासन करने के लिए आप सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। अपनी कमर, गर्दन को सीधा रखें और अपने दोनों पैरों को आपस में मिलाकर रखें। सांस भरते हुए अपने हाथों को सिर के ऊपर करें और अपने पूरे शरीर को धीरे-धीरे ऊपर खींचे। इस खिंचाव को आपको अपने पैर की उंगलियों तक महसूस करना है। कुछ देर इस अवस्था में रुकने के बाद वापस सामान्य अवस्था में आ जाना है। इसका अभ्यास आप 8 से 10 बार कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: ताड़ासन करने से सबसे ज्यादा क्या फायदा होता है?

(3) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग भुजंगासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग भुजंगासन

रीढ़ की हड्डी से जुड़ी परेशानियों को दूर करने के लिए और रीढ़ की हड्डी को सीधा बनाए रखने के लिए भुजंगासन भी अच्छा आसन होता है। भुजंगासन करने के लिए सबसे पहले पेट के बल जमीन पर लेट जाएं। आपको अपने दोनों पैरों को सीधा रखना है और दोनों पैर आपस में मिले हुए होने चाहिए। अपने दोनों हाथों को अपनी छाती के बाजू में रखें। अब गहरी सांस लेते हुए अपने हाथों को सीधा करना है और अपने सिर और छाती को ऊपर की तरफ उठाना है। जितना आप आसानी से अपनी गर्दन को पीछे कर सकते हैं उतना पीछे करने का प्रयास करें और कुछ देर इस स्थिति में रुके। इसके बाद सांस छोड़ते हुए वापस पूर्व स्थिति में आ जाएं।

(4) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग मत्स्यासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग मत्स्यासन

रीढ़ की हड्डी को सीधा और स्वस्थ बनाए रखने में मत्स्यासन भी फायदेमंद होता है। मत्स्यासन करने से रीढ़ की हड्डी के आसपास की मांसपेशियों में रक्त का संचार सुचारू रूप से होता रहता है। मत्स्यासन करने के लिए आपको अपनी पीठ के बल जमीन पर लेट जाना है। अपने हाथों को शरीर के बगल में रखना है। अपने दोनों पैरों को सीधा रखना है या फिर आप पद्मासन मुद्रा भी बना सकते हैं। अब आपको सांस लेते हुए अपने सिर और छाती को ऊपर उठाना है। छाती को ऊपर उठाने के बाद अपने सिर को नीचे करना है जिससे कि सिर का ऊपरी हिस्सा जमीन को छुए। कुछ देर के लिए आपको ऐसी स्थिति में रुकना है फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाना है।

(5) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग सेतुबंधासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग सेतुबंधासन

रीढ़ की हड्डी को सीधा बनाए रखने और कमर दर्द को दूर करने में सेतुबंधासन भी लाभदायक होता है। सेतुबंधासन करने के लिए पीठ के बल जमीन पर लेट जाएं। अपने दोनों पैरों के पंजों को अपने नितंबों के पास रख लें। दोनों पैरों के बीच में कंधों के जितना अंतर होना चाहिए। अपने दोनों हाथों को जमीन पर सीधा रखें। अब सांस लेते हुए आपको अपनी कमर के हिस्से को ऊपर उठाना है। अपने कंधे और सिर को जमीन पर ही रखे रहना है। कुछ देर इस अवस्था में रुकने के बाद सांस छोड़ते हुए दोबारा पहली स्थिति में आ जाना है।

(6) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग धनुरासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग धनुरासन

रीढ़ की हड्डी को सीधा बनाए रखने और पेट से संबंधित समस्याओं को दूर करने में धनुरासन भी लाभदायक होता है। धनुरासन करने के लिए आपको पेट के बल लेट जाना है। अपने घुटनों को मोड़कर पंजों को अपने नितंबों के पास लाना है और अपने हाथों से पैरों के पंजों को पकड़ लेना है। अब आपको अपने हाथों और पैरों को जितना हो सके ऊपर खींचने का प्रयास करना है। अपने चेहरे को भी ऊपर रखने का प्रयास करें। जब तक आप ऐसी स्थिति में रुक सकते हैं तब तक रुके फिर वापस सामान्य स्थिति में आ जाएं।

(7) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग मकरासन

रीढ़ की हड्डी की संरचना को सही बनाए रखने में मकरासन भी बहुत लाभदायक साबित होता है। मकरासन करने के लिए आपको पेट के बल लेट जाना है। अपने सिर और कंधों को कोहनियों के सहारे ऊपर उठाना है। अपने हाथों की हथेलियों पर अपनी ठोड़ी को रख लेना है। आंखों को बंद करके कुछ देर इस स्थिति में रुकना है।

(8) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग पश्चिमोत्तनासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग पश्चिमोत्तनासन

पश्चिमोत्तनासन करने से रीढ़ की हड्डी के साथ ही शरीर के पिछले भाग में खिंचाव आता है जिससे रीढ़ की हड्डी सीधी, लचीली और मजबूत बनी रहती है। इस आसन को करने से लंबाई बढ़ाने में भी सहायता मिलती है। साथ ही यह आसन कई सारी बीमारियों में भी लाभदायक होता है। पश्चिमोत्तनासन करने के लिए जमीन पर दोनों पैरों को सीधा फैला कर बैठ जाएं। दोनों पैर के पंजे आपस में जुड़े हुए होने चाहिए। अपनी गर्दन और रीढ़ की हड्डी को भी सीधा रखें। अब गहरी सांस लेते हुए अपने हाथों को ऊपर तक उठाएं और सांस छोड़ते हुए अपने सिर और धड़ को धीरे-धीरे आगे की तरफ झुकाना शुरू करें। अपने घुटनों को मोड़े बिना पैरों की उंगलियों को छूने का प्रयास करें। कुछ देर इस स्थिति में रुके इसके बाद सांस भरते हुए सामान्य स्थिति में आ जाएं।

यह भी पढ़ें: मोटापा कम करने के लिए कौन सा योग करें?

(9) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग मार्जरीआसन

रीढ़ की हड्डी को सीधा, मजबूत और लचीला बनाने में मार्जरी आसन भी बहुत लाभदायक होता है। मार्जरी आसन करने के लिए सबसे पहले वज्रासन की स्थिति में बैठ जाएं। अब अपने दोनों हाथों को सामने फर्श पर रख ले और अपने शरीर का भार अपने हाथों पर डालें। अब आपको सांस लेते हुए अपनी नाभि को नीचे की तरफ ले जाने का प्रयास करना है साथ ही अपने सिर को ऊपर उठाने का प्रयास करना है। इसके बाद सांस छोड़ते हुए अपनी ठोड़ी को छाती से लगाने का प्रयास करना है और अपनी कमर को जितना हो सके ऊपर उठाने का प्रयास करना है। इस तरह से आपको 10 से 15 बार मार्जरी आसन का अभ्यास करना है।

(10) रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग शवासन

रीढ़ की हडडी को सीधा करने का योग शवासन

शवासन शरीर को आराम देने के लिए योगाभ्यास के आखिरी में किया जाता है। इसे करने से शरीर की सभी मांसपेशियों को आराम मिलता है। साथ ही शरीर की संरचना भी सही बनी रहती है। शवासन करने के लिए आपको पीठ के बल जमीन पर सीधा लेट जाना है। अपने दोनों पैरों को सीधा रखना है। दोनों पैरों के पंजों के बीच में कंधों जितना अंतर बनाए रखना है। अपने दोनों हाथों को शरीर के बगल में सीधा रखना है। हाथों की हथेलियां आसमान की तरफ होनी चाहिए। अपनी आंखों को बंद करके कुछ देर इस स्थिति में विश्राम करना है।

आमतौर पर पूछे जाने वाले सवाल और उनके जवाब

(1) रीड की हड्डी का टेढ़ापन कैसे दूर करें?

रीढ़ की हड्ड़ी का टेढ़ापन दूर करने के लिए आपको नियमित योग करना चाहिए। योग में आपको बालासन, भुजंगासन, सेतुबंधासन, पश्चिमोत्तनासन, मार्जरीआसन, मकरासन, धनुरासन, शवासन का अभ्यास करना चाहिए। यदि आप नियमित रूप से इन आसनों का अभ्यास करते है तो कुछ समय में ही आपको परिवर्तन दिखना शुरू हो जायेगा।

(2) रीड की हड्डी को मजबूती देने के लिए क्या करें?

रीढ़ की हड्ड़ी को मजबूती देने के लिए आपको नियमित योग करना चाहिए। योग करने के साथ ही आपको संतरे, अंगूर, नीबू जैसे खट्टे फल जिनमें विटामिन सी पाया जाता है, शकरकंद, गाजर, कद्दू जिनमें विटामिन ए पाया जाता है, काजू, बादाम, अखरोट जिनमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, विटामिन ई पाया जाता है, डेरी उत्पाद जैसे दूध, दही, पनीर जिनसे हमें विटामिन डी और कैल्शियम मिलता है खाना चाहिए। इसके साथ ही हमें फ़ास्ट फ़ूड के स्थान पर हरी सब्जियाँ ज्यादा खाना चाहिए। यदि आप इन उपायों को अपनी दिनचर्या में अपनाते है तो आप जल्द ही अपनी रीढ़ की हड्ड़ी को मजबूत बना सकते है।

(3) यह कौन सा आसन है जो रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है?

मार्जरीआसन, भुजंगासन, धनुरासन ऐसे आसन होते है जो रीढ़ की हड्ड़ी को लचीला बनाते है। इन आसनों के अभ्यास से रीढ़ की हड्डी में खिंचाव आता है जिससे रीढ़ की हड्डी लचीली व मजबूत बनती है।

(4) रीढ़ की हड्डी टेढ़ी क्यों हो जाती है?

कंधे और कमर झुकाकर बैठने या चलने से, अनुवांशिक कारणों से और कई बार अज्ञात कारणों से रीढ़ की हड्डी में टेढ़ापन आ जाता है।

यह भी पढ़ें:-

एड़ी का दर्द दूर करने के उपाये

सर्वांगासन करने का सबसे अच्छा समय क्या होता है?

कपालभाति प्राणायाम और भस्त्रिका प्राणायाम में क्या अंतर होता है?