Ad Code

कपालभाति क्या है, कपालभाति के फायदे | Kapalbhati Kya Hai, Kapalbhati Ke Fayde

कपालभाति क्या है, कपालभाति के फायदे | Kapalbhati Kya Hai, Kapalbhati Ke Fayde

कपालभाति क्या है, कपालभाति के फायदे | Kapalbhati Kya Hai, Kapalbhati Ke Fayde


कपालभाति प्राणायाम करने से ना केवल हमारा शरीर स्वस्थ बनता है बल्कि हमारा मन भी स्वस्थ होता है। इस प्राणायाम को करने से हमारे शरीर में मौजूद 60% से ज्यादा विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे हमारा शरीर अंदर से स्वस्थ बनता है। इसे करने से हमारा मन शांत रहता है और हमारी एकाग्रता भी बढ़ती है। कई गंभीर बीमारियां कपालभाति करने से ठीक की जा सकती हैं इसलिए नियमित रूप से कपालभाति का अभ्यास जरूर करना चाहिए। कपालभाति करने से सभी को अनेकों प्रकार के फायदे प्राप्त होते हैं।

यह भी पढ़ें: कपालभाति करने की विधि


कपालभाति के फायदे (Kapalbhati Ke Fayde)


(1) कपालभाति प्राणायाम करने से हमारे शरीर में ऑक्सीजन लेवल सुधरता है जिससे ऑक्सीजन शरीर में बढ़ती है और कार्बन डाइऑक्साइड का लेबल कम होता है।

(2) रोजाना कपालभाति प्राणायाम करने से हम चिंता और तनाव से मुक्त होते हैं।

(3) कपालभाति प्राणायाम में सांस लेने और छोड़ने से फेफड़ों की क्षमता बढ़ती है जिससे फेफड़े मजबूत बनते हैं।

(4) कपालभाति प्राणायाम के नियमित अभ्यास से हमारे शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं जिससे हमारा शरीर अंदर से स्वस्थ बनता है।

(5) कपालभाति प्राणायाम के नियमित अभ्यास से हमारी एकाग्रता शक्ति में सुधार होता है और हमारी याददाश्त बेहतर बनती है।

(6) कपालभाति प्राणायाम नियमित रूप से करने से हमारी किडनी और लिवर भी स्वस्थ होते हैं।

(7) कपालभाति प्राणायाम करने से हमारे शरीर के विषैले पदार्थ निकल जाते हैं, शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है जिससे हमारी त्वचा में चमक आती है और त्वचा लंबी उम्र तक निरोगी बनी रहती है।

(8) जिन लोगों को जल्दी थकान लगती है उनके लिए भी कपालभाति प्राणायाम लाभदायक होता है क्योंकि नियमित रूप से कपालभाति करने से हमारे शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ता है और हम स्फूर्तिवान बने रहते हैं।

(9) यदि आपकी आंखों के नीचे काले घेरे हैं तो भी आपको कपालभाति प्राणायाम करना चाहिए। कपालभाति प्राणायाम करने से आंखों के नीचे के काले घेरे ठीक हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: अनुलोम विलोम प्राणायाम से होने वाले लाभ

(10) जिन लोगों को रात में ठीक से नींद नहीं आती है उन्हें भी कपालभाति करना चाहिए। कपालभाति करने से नींद ना आने की परेशानी दूर होती है।

(11) गैस और एसिडिटी की परेशानी होने पर भी कपालभाति हमें लाभ पहुंचाता है और पाचन शक्ति को बढ़ाता है।

(12) कपालभाति प्राणायाम करने से हमारा मेटाबॉलिज्म लेबल बढ़ता है साथ ही हमारा वजन भी नियंत्रण में रहता है।

(13) कपालभाति प्राणायाम करने से हमारी बालों से जुड़ी परेशानियां जैसे कि बालों का झड़ना, जल्दी सफेद होना, बालों का रूखापन भी दूर होता है।

आमतौर पर पूछे जाने वाले सवाल और उनके जवाब



(1) कपालभाति से कौन कौन से रोग ठीक होते हैं?


नियमित कपालभाति प्राणायाम करने से चिंता, तनाव दूर होता है, फेफड़ों की क्षमता बढ़ती है और फेफड़े मजबूत होते हैं, हमारे शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, हमारी याददाश्त बढ़ती है, किडनी और लिवर स्वस्थ होते हैं, त्वचा में चमक आती है, बालों का झड़ना और कम उम्र में ही सफेद होना बंद होता है, हमारे शरीर में ऊर्जा का संचार बढ़ता है और हम स्फूर्तिवान बने रहते हैं, आंखों के नीचे के काले घेरे ठीक हो जाते हैं, हमें अच्छी नींद आती है, पाचन शक्ति बढ़ती है और गैस, एसिडिटी की परेशानी दूर होती है, हमारा मेटाबॉलिज़्म लेवल बढ़ता है और वजन नियंत्रण में रहता है।

(2) कपालभाति कितने मिनट करना चाहिए?


शुरुआत में कपालभाति का अभ्यास 3 से 5 मिनट करना चाहिए। इसके अभ्यास को धीरे-धीरे बढ़ाकर 10 से 20 मिनट किया जा सकता है।

(3) कपालभाति प्राणायाम कब नहीं करना चाहिए?


तेज बुखार होने पर, तेज सिर दर्द होने पर, कोई बड़ी बीमारी होने पर, अत्यधिक कमजोरी होने पर, चोट लगने के बाद, ऑपरेशन होने के तुरंत बाद, अत्यधिक गर्म वातावरण में, गर्भावस्था के दौरान, मासिक चक्र के समय कपालभाति प्राणायाम का अभ्यास नहीं करना चाहिए। खाना खाने के तुरंत बाद भी कपालभाति प्राणायाम नहीं करना चाहिए।

(4) कपालभाति से पेट कम होता है क्या?


कपालभाति प्राणायाम करने से हमारे शरीर में जमी हुई अतिरिक्त चर्बी निकल जाती है जिससे हमारा पेट कम होता है।

(5) कपालभाति के कितनी देर बाद खाना खाना चाहिए?


कपालभाति प्राणायाम करने के 2 से 3 घंटे के बाद ही खाना खाना चाहिए या कोई भी पेय पदार्थ पीना चाहिए।

यह भी पढ़ें:-
सर्वांगासन क्या है, सर्वांगासन से होने वाले लाभ
हलासन कैसे करते है, हलासन से होने वाले लाभ
ताड़ासन करने की विधि, ताड़ासन के लाभ

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Ad Code