सर्वांगासन करने का सही समय क्या है? सर्वांगासन के क्या क्या लाभ हैं?

सर्वांगासन करने का सही समय क्या है? सर्वांगासन के क्या क्या लाभ हैं?

सर्वांगासन करने का सही समय क्या है? सर्वांगासन के क्या क्या लाभ हैं?


सर्वांगासन के नाम से ही हमें पता चलता है कि यह आसन हमारे पूरे शरीर को लाभ देता है इसलिए इसे सर्वांगासन कहाँ जाता है। सर्वांगासन के नियमित अभ्यास से हमें कई लाभ प्राप्त होते है। सर्वांगासन हमारे सौंदर्य को बढ़ाता है, बालों को काला करता है, दिल और फेफडे मजबूत बनाता है, हमारी हाईट बढ़ाने में भी मदद करता है।



(1) सर्वांगासन करने के बाद कौन सा आसन करना चाहिए?


सर्वांगासन करने के बाद उर्ध्व धनुरासन, शीर्षासन और शवासन का अभ्यास करना चाहिए। योगाभ्यास के बाद शवासन का अभ्यास जरूर करना चाहिए। इसको करने से हमारे शरीर को आराम मिलता है।


(2) सर्वांगासन करने का सही समय क्या है?


सर्वांगासन करने का सबसे अच्छा समय सुबह का होता है। सुबह के समय हमारा पेट खाली रहता है। सर्वांगासन करने के लिए हमें अपने कंधों के बल खड़े होना पड़ता है ऐसे में यदि आप कुछ खाने पीने के बाद सर्वांगासन करते है तो आपको उल्टी आ सकती है और खाना आपकी श्वास नली में फस सकता है। जो आपके लिए बहुत नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसके साथ ही सुबह के समय ताजी हवा चलती है। ताजी हवा में सर्वांगासन करने से हमें इसका अधिकतम लाभ मिलता है।


(3) सर्वांगासन के क्या क्या लाभ हैं?


सर्वांगासन करने से हमें कई लाभ मिलते है जैसे- सर्वांगासन हमारी लंबाई बढ़ाने में मदद करता है, इसे करने से पाचन ठीक रहता है, सर्वांगासन हमारे सौंदर्य में बृद्धि करता है, सर्वांगासन करने से बाल जल्दी सफेद नहीं होते, इसे करने से दिल और फेफड़े स्वस्थ्य रहते है।


(4) सर्वांगासन की मुख्य मुद्रा क्या है?


सर्वांगासन की मुख्य मुद्रा में हमारे पैर ऊपर की तरफ होते है और हम अपने कंधों के बल खड़े होते है। अपनी कोहनियों को जमीन पर रखकर अपने हाथों से कमर को सहारा देते है।


(5) सर्वांगासन करने में कितना समय लगता है?


सर्वांगासन करने का कोई निश्चित समय नहीं होता है। इसे करते समय हमें अपनी क्षमता और सुविधा के अनुसार इस स्थिति में रुकना पड़ता है। शुरुआत में हम इसका अभ्यास 2 से 5 मिनट के लिए कर सकते है और बाद में इसके समय को बढ़ाकर 10 से 15 मिनट तक किया जा सकता है।


यह भी पढ़ें:-

भस्त्रिका और कपालभाति में क्या अंतर है

सुबह योग करने से होने वाले लाभ

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से होने वाले लाभ

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ