Ad Code

ताड़ासन करने से सबसे ज्यादा क्या फायदा होता है? ताड़ासन कितने मिनट तक करना चाहिए?

ताड़ासन करने से सबसे ज्यादा क्या फायदा होता है? ताड़ासन कितने मिनट तक करना चाहिए?

ताड़ासन करने से सबसे ज्यादा क्या फायदा होता है? ताड़ासन कितने मिनट तक करना चाहिए?

(1) ताड़ासन से क्या लाभ होता है?

ताड़ासन करने से हमें कई लाभ प्राप्त होते है। जब हम ताड़ासन करते समय शरीर को ऊपर की तरफ खींचते है तो शरीर की सभी मांसपेशियों में खिंचाव आता है जिससे मांसपेशियाँ लचीली और मजबूत बनती है, ताड़ासन शरीर में खिंचाव लाता है जिससे लंबाई बढ़ती है, ताड़ासन में गहरी साँस लेने से फेफड़ों की कार्य क्षमता बढ़ती है और श्वसन तंत्र ठीक से कार्य करता है, इसे करने से हमारी पाचन शक्ति भी बढ़ती है और पेट से जुड़े रोग भी ठीक होते है, रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी ताड़ासन सहायक होता है।

(2) ताड़ासन कितने मिनट तक करना चाहिए?

ताड़ासन करते समय साँस लेकर शरीर को ऊपर खींचा जाता है और लगभग 1 मिनट रुकने का प्रयास किया जाता है। इस तरह से यदि आप ताड़ासन के 10 से 12 चक्र करते है तो आपको ताड़ासन करने में 10 से 15 मिनट का समय लग सकता है। किसी भी योगाभ्यास को अपनी क्षमता के अनुसार ही करना चाहिए। अपनी क्षमता से अधिक शक्ति नहीं लगाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: मोटापा कम करने के लिए कौन सा योग करना चाहिए?

(3) ताड़ासन करते वक्त बरतें क्या सावधानियां?

ताड़ासन करते समय भी हमें कुछ सावधानियाँ रखना चाहिये। आमतौर पर योग करने से हमें कोई नुकसान नहीं होता है लेकिन अपनी क्षमता से अधिक शक्ति लगाना, चोट लगने के बाद भी ताड़ासन करना, बीमार होने पर, ऑपरेशन होने के बाद, तेज बुखार होने पर ताड़ासन करना नुकसानदायक हो सकता है। महिलाओं को भी मासिक धर्म के समय और गर्भावस्था में सावधानी से ताड़ासन करना चाहिए और किसी चिकित्सक या योग के जानकार से सलाह लेकर ही योग करना चाहिए।

(4) ताड़ासन कैसे करना चाहिए?

ताड़ासन सीधे खड़े होकर किया जाता है। अपने दोनों पैरों को पास में रखकर खड़े हो जाये। गहरी साँस लेते हुए अपने हाथों को ऊपर तक ले जाये। हाथों को आपस में मिलाकर पूरे शरीर को ऊपर खींचे। साँस छोड़ते हुए वापस सामान्य स्थिति में आ जाये।

(5) ताड़ासन कब नहीं करना चाहिए?

शरीर में ज्यादा दर्द होने पर, गर्दन में दर्द या अकड़न होने पर, ज्यादा चोट लगने पर, ऑपरेशन होने के बाद, बीमार होने पर ताड़ासन नहीं करना चाहिए। गर्भावस्था में चिकित्सक से सलाह लेकर ही ताड़ासन करना चाहिए।

(6) ताड़ासन के बाद क्या करना चाहिए?

ताड़ासन के बाद आपको पादहस्तासन, पश्चिमोत्तनासन, अर्धचक्रासन, चक्रासन, धनुरासन, बालासन, हलासन, सर्वांगासन का अभ्यास करना चाहिए।

(7) ताड़ासन करने से सबसे ज्यादा क्या फायदा होता है?

ताड़ासन हमारे पूरे शरीर के लिए फायदेमंद होता है। इसे करने से हमें अनेकों फायदे होते है। ताड़ासन करने से सबसे ज्यादा फायदा हमें यह मिलता है कि इससे हमारे शरीर की सभी मांसपेशियां और हड्डियाँ लचीली व मजबूत बनती है जिससे हमारी लंबाई जल्दी बढ़ती है।

यह भी पढ़ें:-

पैर की एड़ी का दर्द कैसे ठीक कर सकते है?

सर्वांगासन करने का सबसे अच्छा समय कौन सा है?

भस्त्रिका और कपालभाति प्राणायाम में क्या अंतर होता है?

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Ad Code